मधुबनी शहर में जलजमाव से नहीं मिल रही निजात


मानसून की बारिश ने शहर की स्थिति नारकीय बना दी है। शहर के कई मोहल्ले जलजमाव की पीड़ा झेल रहे हैं। थोड़ी राहत मिलती है कि बारिश होने से स्थिति फिर से गंभीर बन जाती है। मानसून के शुरू होते ही शहरवासियों की परेशानी शुरू हो गई जो अब तक खत्म नहीं हो सकी है। हालांकि, बीते दो-तीन दिनों में बारिश में कई से कई इलाकों को राहत मिली है, लेकिन कई इलाके अभी भी जलजमाव का दंश झेल रहे हैं। यहां के लोगों का जीवन अभी भी मुश्किलों का सामना कर रहा है। घर से निकलते ही लोगों को सड़कों पर जलजमाव का सामना करना पड़ा रहा है।

लंबे समय से जलजमाव के कारण कई सड़कों की हालत भी जर्जर हो गई है जो दुर्घटनाओं का कारण् भी बनने लगे हैं। इन इलाकों में शहर का रेडक्रॉस रोड व बलुवा चौक से भालसरी चौक जाने वाली सड़क भी शामिल है। शहर की इन दोनों सड़कों पर करीब एक माह से जलजमाव के कारण सड़क पूरी तरह जर्जर हो गई है। जलजमाव के बीच इन सड़कों पर वाहनों की लगातार आवाजाही से सड़क जगह-जगह गड्ढे में तब्दील हो गई है। जिससे दो पहिया वाहन दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं। वहीं, पैदल चलने वाले लोग गड्ढे में गिर रहे हैं। 

बलुआ चौक निवासी मंगल यादव ने बताया कि बलुआ चौक से भालसरी चौक जाने वाली सड़क पर पूर्व से ही करीब 50 फीट में जलजमाव से सड़क की हालत पूरी तरह खराब हो गई है। इधर, रेडक्रॉस रोड निवासी गोपी कुमार ने बताया कि जलजमाव के कारण जगह-जगह गड्ढा बन जाने से इस सड़क पर पैदल चलना खतरनाक हो गया है। वहीं, विनोदानंद झा कॉलोनी में जलजमाव में कमी आई है, मगर इससे पूरी तरह निजात नहीं मिली है। कॉलोनी के कई हिस्से में आज भी जलजमाव बना हुआ है। वहीं, प्रगतिनगर, कॉलोनी के राजेश कुमार, शंकर प्रसाद ने बताया कि कॉलोनी के प्रवेश गेट पर केनाल की ऊंचाई बढ़ा देने से अब कॉलोनी से जलनिकासी पूरी तरह बाधित हो गई है। 

नगर आयुक्त राकेश कुमार ने बताया कि निगम क्षेत्र के जलजमाव वाले इलाकों में धीरे-धीरे हालत में सुधार हो रहा है। निगम क्षेत्र के जर्जर सड़कों की सूची बनाकर इसे आवागमन लायक बनाने की प्रक्रिया अपनाई जाएगी।
Previous Post Next Post